meniya

MENIYA
꧁❤ Butterfly Lovers ❤꧂

Shayari On Eyes | Aankhen Shayari Hindi Mai | Bet Eyes Shayari Collection

Shayari On Eyes | Aankhen Shayari Hindi Mai | Bet Eyes Shayari Collection


People have fascinating eyes. They are not just part of us but holds thousands of delightful dreams, treasures, expressions and love for everyone. When in love, one can never get tired of staring his partner’s eyes and wishes to wake up next to it every morning. That is why Eyes Shayari are one of the most popular shayaris of all time read by lovers. Here in this article, we have collected amazing Aankhen Shayari, Shayari on Eyes, Aankhen Shayari Hindi Mai, Nigah Shayari, Amazing Aankhen Shayari For Facebook and WhatsApp that will help you convey your feelings of love to your partner about their beautiful eyes. Read these Shayaris and spread love with them.

Shayari on Eyes

01.

जो सूरुर है तेरी आँखों में वो बात कहां मैखाने में,
बस तू मिल जाए तो फिर क्या रखा है ज़माने में।


Jo Soorur Hai Teri Aankhon Mein Vo Baat Kahaan Maikhane Mein,
Bas Tu Mil Jaye To Phir Kya Rakha Hai Zamane Mein.
02.

एक नजर देख ले हमे जीने की इजाजत दे दे,
ए रुठने वाले… वो पहली सी मोहब्बत दे दे।


Ek Najar Dekh Le Hume Jeene Ki Izazat De De,
Ae Ruthne Wale… Wo Pehli Si Mohabbat De De.
03.

वो बोलते रहे… हम सुनते रहे…
जवाब आँखों में था वो जुबान में ढूंढते रहे।


Wo Bolte Rahe… Hum Sunte Rahe…
Jawaab Aankhon Mein Tha Wo Jubaan Mein Dhoondhte Rahe.
04.

तेरी निगाह दिल से जिगर तक उतर गयी,
दोनों को ही एकअदा में रजामंद कर गई।


Teri Nigah Dil Se Jigar Tak Utar Gayi,
Dono Ko Hi EkAda Mein Rajamand Kar Gayi.
05.

मुस्कुरा के देखा तो कलेजे में चुभ गयी,
खँजर से भी तेज़ लगती हैं आँखें जनाब की।


Muskura Ke Dekha Toh Kaleje Mein Chubh Gayi,
Khanjar Se Bhi Tej Lagti Hain Aankhein Janaab Ki.
06.

देखा है मेरी नजरों ने
एक रंग छलकते पैमाने का,
यूँ खुलती है आंख किसी की
जैसे खुले दर मैखाने का।


Dekha Hai Meri Najron Ne
Ek Rang Chhalkte Paimaane Ka,
Yun Khulti Hai Aankh Kisi Ki
Jaise Khule Dar Maikhane Ka.
07.

फर्याद कर रही हैं तरसती हुई निगाहें,
देखे हुए किसी को… बहुत दिन गुज़र गए।


Faryaad Kar Rahi Hain Tarasti Hui Nigahein,
Dekhe Huye Kisi Ko… Bahot Din Guzar Gaye.
08.

इकरार में शब्दों की एहमियत नहीं होती,
दिल के जज़्बात की आवाज़ नहीं होती,
आँखें बयान कर देती है दिल की दास्तान,
मोहब्बत लफ्जों की मोहताज नहीं होती।


Ikraar Mein Shabdon Ki Ehamiyat Nahin Hoti,
Dil Ke Jazbaat Ki Aavaaz Nahin Hoti,
Aankhein Bayan Kar Deti Hain Dil Ki Dastaan,
Mohabbat Lafjon Ki Mohtaaj Nahin Hoti.
09.

आँखें नीची हैं तो हया बन गई,
आँखें ऊँची हैं तो दुआ बन गई,
आँखें उठ कर झुकी तो अड़ा बन गई,
आँखें झुक कर उठी तो कदा बन गई।


Aankhein Neechi Hain To Haya Ban Gai,
Aankhein Unchi Hain To Duaa Ban Gai,
Aankhein Uthkar Jhuki To Arha Ban Gai,
Aankhein Jhuk Kar Uthi To Kada Ban Gai.
10.

हम भटकते रहे थे अनजान राहों में,
रात दिन काट रहे थे यूँ ही बस आहों में,
अब तमन्ना हुई है फिर से जीने की हमें,
कुछ तो बात है सनम तेरी इन निगाहों में।


Hum Bhatkte Rahe The Anjaan Raahon Mein,
Raat Din Kaat Rahe The Yun Hi Bas Aahon Mein,
Ab Tamanna Huyi Hai Phir Se Jeene Ki Humein,
Kuchh Baat Toh Hai Sanam Teri Inn Nigahon Mein.
11.

आँखों से आँखें मिला कर तो देखो,
हमारे दिल से दिल लगा कर तो देखो,
सारे जहान की खुशियाँ तेरे दामन में रख देंगे,
हमारे प्यार पर ज़रा ऐतबार करके तो देखो।


Aankhon Se Aankhein Mila Kar To Dekho,
Humare Dil Se Dil Laga Kar To Dekho,
Sare Jahan Ki Khushiya Tere Kadmo Me Rakh Denge,
Humare Pyar Par Jara Aitbaar Karke To Dekho.
Aankhen Shayari
12.

आँखों में हया हो तो
पर्दा दिल का ही काफी है,
नहीं तो नक़ाब से भी होते हैं,
इशारे मोहब्बत के।


Aankhon Mein Haya Ho Toh
Parda Dil Ka Hi Kafi Hai,
Nahi Toh Naqaab Se Bhi Hote Hain
Ishare Mohabbat Ke.
13.

मेरी निगाह-इ-शौक़ भी कुछ कम नहीं मगर,
फिर भी तेरा शबाब तेरा ही शबाब है।


Meri Nigah-E-Shauq Bhi Kuch Kam Nahi Magar,
Phir Bhi Tera Shabab Tera Hi Shabab Hai.
14.

क्या कहें, क्या क्या किया, तेरी निगाहों ने सुलूक,
दिल में आईं दिल में ठहरीं दिल में पैकाँ हो गईं।


Kya Kahein, Kya Kya Kiya, Teri Nigaahon Ne Sulook,
Dil Mein Aayi Dil Mein Thhehri Dil Mein Paikaan Ho Gayi.
15.

तेरी निगाह में, एक रंग-ए-अजनबियत था,
किस ऐतेबार पे हम खुल के गुफ्तुगू करते।


Teri Nigah Main, Ek Rang-E-Ajnabiyat Tha,
Kis Aitebar Pe Hum Khul Ke Guftugu Karte.
16.

कभी तो आसमाँ से चांद उतरे जाम हो जाये,
तुम्हारे नाम की इक ख़ूबसूरत शाम हो जाये,
हमारा दिल सवेरे का सुनहरा जाम हो जाये,
चराग़ों की तरह आँखें जलें जब शाम हो जाये।


Kabhi To Aasmaan Se Chand Utare Jaam Ho Jaye,
Tumhare Naam Ki Ik Khoobasurat Shaam Ho Jaye,
Hamara Dil Savere Ka Sunhara Jaam Ho Jaye,
Charagon Ki Tarah Aankhen Jalen Jab Shaam Ho Jaye.
17.

बहुत खूबसूरत हैं ये आँखें तुम्हारी,
इन्हें बना दो किस्मत हमारी,
हमें नहीं चाहिये ज़माने की खुशियाँ,
अगर मिल जाये मोहब्बत तुम्हारी।


Bahut Khoobsurat Hain Ye Aankhen Tumhari,
Inhen Bana Do Kismat Humari,
Hume Nahi Chahiye Zamane Ki Khushiyan,
Agar Mil Jaaye Mohabbat Tumhari.
18.

ना जाने कौन सा जादू है तेरी बाहों में,
शराब सा नशा है तेरी आँखों में,
तेरी तलाश में तेरे मिलने की आस लिए,
दुआऐं मांगता फिरता हूँ मैं दरगाहों में।


Na Jane Kon Sa Jadu Hai Teri Bahon Me,
Sharab Sa Nasha Hai Teri Aankhon Me,
Teri Talash Me Tere Milne Ki Aas liye,
Duayen Mangta Firta Hun Main Dargahon Me.
19.

आपने नज़र से नज़र जब मिला दी,
हमारी ज़िन्दगी झूमकर मुस्कुरा दी,
जुबां से तो हम कुछ भी न कह सके,
पर आँखों ने दिल की कहानी सुना दी।


Aapne Najar Se Najar Jab Mila Di,
Humari Zindgi Jhum Kar Muskura Di,
Jubaan Se Toh Hum Kuchh Bhi Na Kah Sake,
Par Aankhon Ne Dil Ki Kahani Suna Di.
Aankhen Shayari Hindi Mai
20.

मदहोश आंखो से वो जब हमें देखते हैं,
हम घबरा के अपनी पलके झुका लेते हैं,
कैसे मिलाए हम उन आँखों से आँखें,
सुना है वो आँखों से अपना बना लेते हैं।


Madhhosh Aankhon Se Wo Jab Hamen Dekhte Hain,
Hum Ghabra Ke Apni Palken Jhuka Lete Hain,
Kaise Milaaye Hum Un Aankhon Se Aankhein,
Suna Hai Wo Aankhon Se Apna Bana Lete Hai.
Today Trending Artical
❤️ Thanks for Visit ❤️

Post a comment

0 Comments